Categories: जैन धर्म जैन पूजा

Shri Rishi Mandal Pooja Hindi – श्री ऋषिमंडल पूजा (हिंदी)

SHRI RISHI MANDAL POOJA HINDI

श्री ऋषिमंडल पूजा (हिंदी)

             ऋषिमण्डल शुभयन्त्र

लेखक : कवि श्री मल्ल

स्थापना

(दोहा)

चौबिस जिनपद प्रथम नमि, दुतिय सु गणधर पाय |
त्रितिय पंच-परमेष्ठि को, चौथे शारद माय ||
मन वच तन ये चरन युग, करहुँ सदा परनाम |
ऋषिमंडल-पूजा रचूं, बुधि बल द्यो अभिराम ||

(अडिल्ल छन्द)

चौबीस जिन वसु वर्ग पंच गुरु जे कहे |
रत्नत्रय चव-देव चार अवधी लहे ||
अष्ट ऋद्धि चव दोय सुरि ह्रीं तीन जू |
अरिहंत दश दिग्पाल यंत्र में लीन जू ||

(दोहा)

यह सब ऋषिमंडल-विषै, देवी-देव अपार |
तिष्ठ-तिष्ठ रक्षा करो, पूजूँ वसु-विधि सार ||

ॐ ह्रीं श्री वृषभादि चौबीस तीर्थंकर, अष्ट वर्ग, अरिहंतादि पंचपद, दर्शनज्ञानचारित्र रूपरत्नत्रय, चतुर्णिकाय देव, चार प्रकार अवधिधारक श्रमण, अष्ट ऋद्धिधारी ऋषि, चौबीस देव, तीन ह्रीं, अरिहन्त-बिम्ब, दश दिग्पाल इति यंत्रसम्बन्धी परमदेव समूह ! अत्र अवतर अवतर संवौषट्! (आह्वाननम्)
ॐ ह्रीं श्री वृषभादि चौबीस तीर्थंकर, अष्ट वर्ग, अरिहंतादि पंचपद, दर्शनज्ञानचारित्र रूपरत्नत्रय, चतुर्णिकाय देव, चार प्रकार अवधिधारक श्रमण, अष्ट ऋद्धिधारी ऋषि, चौबीस देव, तीन ह्रीं, अरिहन्त-बिम्ब, दश दिग्पाल इति यंत्रसम्बन्धी .परमदेव समूह ! अत्र तिष्ठ तिष्ठ ठ: ठ:! (स्थापनम्)
ॐ ह्रीं श्री वृषभादि चौबीस तीर्थंकर, अष्ट वर्ग, अरिहंतादि पंचपद, दर्शनज्ञानचारित्र रूपरत्नत्रय, चतुर्णिकाय देव, चार प्रकार अवधिधारक श्रमण, अष्ट ऋद्धिधारी ऋषि, चौबीस देव, तीन ह्रीं, अरिहन्त-बिम्ब, दश दिग्पाल इति यंत्रसम्बन्धी परमदेव समूह ! अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट्! (सन्निधिकरणम्)

अष्टक (हरिगीता छन्द)

क्षीर-उदधि-समान निर्मल, तथा मुनि-चित-सारसो |
भर भृंग-मणिमय नीर सुन्दर, तृष तुरति निवारसो ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय जन्म-जरा-मृत्यु-विनाशनाय जलं निर्वपामीति स्वाहा ।१।

(नोट- प्रत्येक द्रव्य चढ़ाते हुये स्थापना के मंत्र को भी पूरा पढ़ा जा सकता है)

मलय चंदन लाय सुन्दर, गंधसों अलि झंकरे |
सो लेहु भविजन कुंभ भरिके, तप्त-दाह सबै हरे ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय संसारताप-विनाशनाय चंदनं निर्वपामीति स्वाहा ।२।

इन्दु-किरण समान सुन्दर, ज्योति मुक्ता की हरें |
हाटक रकेबी धारि भविजन, अखय-पद प्राप्ती करें ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि -परमदेवाय अक्षयपद-प्राप्तये अक्षतान् निर्वपामीति स्वाहा ।३।

पाटल गुलाब जुही चमेली, मालती बेला घने |
जिस सुरभि तें कलहंस नाचत, फूल गुंथि माला बने ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि -परमदेवाय कामबाण-विध्वंसनाय पुष्पं निर्वपामीति स्वाहा ।४।

अर्द्धचंद्र-समान फेनी मोदकादिक ले घने |
घृत पक्व मिश्रित रस सु पूरे लख क्षुधा डायनि हने ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय क्षुधारोग-विनाशनाय नैवेद्यं निर्वपामीति स्वाहा।५।

मणिदीप-ज्योति जगाय सुन्दर, वा कपूर अनूपकं |
हाटक सुथाली-माँहि धरिके, वारि जिनपद-भूपकं ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय मोहांधकार-विनाशनाय दीपं निर्वपामीति स्वाहा ।६।

चंदन सु कृष्णागरु कपूर, मँगाय अग्नि जराइये |
सो धूप-धूम अकाश लागी, मनहुँ कर्म उड़ाइये ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय अष्टकर्म-दहनाय धूपं निर्वपामीति.स्वाहा ।७।

दाड़िम सु श्रीफल आम्र कमरख, और केला लाइये |
मोक्षफल के पायवे की, आश धरि करि आइये ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यंत्र-सम्बन्धि-परमदेवाय मोक्षफलप्राप्तये फलं निर्वपामीति. स्वाहा ।८।

जल-फलादिक द्रव्य लेकर, अर्घ्य सुन्दर कर लिया |
संसार-रोग निवार भगवन्, वारि तुम पद में दिया ||
जहाँ सुभग ऋषिमंडल विराजे, पूजि मन-वच-तन सदा |
तिस मनोवाँछित मिलत सब सुख, स्वप्न में दु:ख नहिं कदा ||
ॐ ह्रीं श्री यन्त्र-सम्बन्धि-परमदेवाय अनर्घ्यपद-प्राप्तये अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।९।

Rishi Mandal Pooja अर्घ्यावली

(अडिल्ल छन्द)

वृषभ जिनेश्वर आदि अंत महावीर जी |
ये चौबिस जिनराज हनें भवपीर जी ||
ऋषि मंडल बिच ह्रीं विषै राजें सदा |
पूजूँ अर्घ्य बनाय होय नहिं दु:ख कदा ||
ॐ ह्रीं श्री वृषभादि-चतुर्विन्शति तीर्थंकर-परमदेवाय अर्घ्यं निर्वपामिति स्वाहा ।

आदि अवर्ग सु अन्तजानि श-ष-स-हा |
ये वसुवर्ग महान यंत्र में शुभ कहा ||
जल शुभ गंधादिक वर द्रव्य मँगायके |
पूजहुँ दोऊ कर जोड़ि शीश निज नायके ||
ॐ ह्रीं श्री अवर्गादि-श-ष-स-हान्त अष्टवर्गाय अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।।

(कामिनी-मोहिनी छन्द)

परम उत्कृष्ट परमेष्ठी पद पाँच को |
नमत शत-इन्द्र खगवृंद पद साँच को ||
तिमिर अघ नाश करण को तुम अर्क हो |
अर्घ लेय पूज्य पद देत बुद्धि तर्क हो ||
ॐ ह्रीं श्री पंचपरमेष्ठि-परमदेवाय अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

(सुन्दरी छन्द)

सुभग सम्यग् दर्शन-ज्ञान जू, कह चरित्र सुधारक मान जू |
अर्घ्य सुन्दर द्रव्य सु आठ ले, चरण पूजहूँ साज सु ठाठले ||
ॐ ह्रीं श्री सम्यग्दर्शन-ज्ञान-चारित्र-रूप रत्नत्रयाय अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

भवनवासी देव व्यन्तर ज्योतिषी कल्पेन्द्र जू |
जिनगृह जिनेश्वरदेव राजें रत्न के प्रतिबिम्ब जू ||
तोरण ध्वजा घंटा विराजें चंवर ढुरत नवीन जू |
वर अर्घ्य ले तिन चरण पूजूं हर्ष हिय अति लीन जू ||
ॐ ह्रीं श्री भवनेन्द्र-व्यंतरेन्द्र-ज्योतिषीन्द्र-कल्पेन्द्र-चतु:प्रकार-देवगृहेषु श्रीजिनचैत्यालयेभ्य: अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

(दोहा)

अवधि चार प्रकार मुनि, धारत जे ऋषिराय |
अर्घ्य लेय तिन चर्ण जजि, विघन सघन मिट जाय ||
ॐ ह्रीं श्री चतु:प्रकार-अवधिधारक-मुनिभ्य: अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

(भुजंगप्रयात छन्द)

कही आठ ऋद्धि धरे जे मुनीशं, महाकार्यकारी बखानी गनीशं |
जल गंध आदि दे जजूं चर्न तेरे, लहूं सुख सबै रे हरूं दु:ख फेरे |
ॐ ह्रीं श्री अष्टऋद्धि-सहित-मुनिभ्य: अर्यं,र निर्वपामीति स्वाहा ।

श्री देवी प्रथम बखानी, इन आदिक चौबीसों मानी |
तत्पर जिन भक्ति विषैं हैं, पूजत सब रोग नशें हैं ||
ॐ ह्रीं श्री ‘श्री’आदि सर्वदेवि-सेवितेभ्य: चतुर्विन्शति-जिनेन्द्रेभ्य: अर्यंदु निर्वपामीति स्वाहा ।

(हंसा छन्द)

यंत्र विषैं वरन्यो तिरकोन, ह्रीं तहँ तीन युक्त सुखभोन ||
जल-फलादि वसु द्रव्य मिलाय, अर्घ सहित पूजूँ सिरनाय ||
ॐ ह्रीं श्री त्रिकोणमध्ये तीन ह्रीं संयुक्ताय अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

(तोमर छन्द)

दस आठ दोष निरवारि, छियालीस महागुण धारि |
वसु द्रव्य अनूप मिलाय, तिन चर्न जजूं सुखदाय ||
ॐ ह्रीं श्रीअष्टादशदोष-रहिताय छियालीस-महागुणयुक्ताय अरिहंत- परमेष्ठिने अर्यंहा निर्वपामीति स्वाहा ।

(सोरठा)

दश दिश दश दिग्पाल, दिशा नाम सो नामवर |
तिन गृह श्री जिन आल, पूजूं वंदूं मैं सदा ||
ॐ ह्रीं श्री दशदिग्पालेभवनेषु जिनबिम्बेभ्य: अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

(दोहा)

ऋषिमंडल शुभ यंत्र के, देवी देव चितारि |
अर्घसहित प्रभु पूजहूँ, दु:ख दारिद्र निवारि ||
ॐ ह्रीं श्री ऋषिमंडल-सम्बन्धि-देवीदेवसेवितेभ्य: जिनेन्द्रेभ्य: अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

ऋषिमण्डल शुभयन्त्र पूजा जयमाला

(दोहा)

चौबीसों जिन चरन नमि, गणधर नाऊँ भाल |
शारद पद पंकज नमूँ, गाऊँ शुभ जयमाल ||
जय ‘आदीश्वर जिन’ आदिदेव, शत इन्द्र जजें मैं करहुँ सेव |
जय ‘अजित जिनेश्वर’ जे अजीत, जे जीत भये भव तें अतीत ||१||

जय ‘संभव जिन’ भवकूप माँहि, डूबत राखहु तुम शर्ण आंहि |
जय ‘अभिनंदन’ आनंद देत, ज्यों कमलों पर रवि करत हेत ||२||

जय ‘सुमति’ सुमति दाता जिनंद, जय कुमति तिमिर नाशन दिनंद |
जय पद्मालंकृत ‘पद्मदेव’ दिन रयन करहुँ तव चरन सेव ||३||

जय ‘श्री सुपार्श्व’ भवपाश नाश, भवि जीवन कूँ दियो मुक्तिवास |
जय ‘चंद’ जिनेश दयानिधान, गुणसागर नागरसुख प्रमान ||४||

जय ‘पुष्पदंत जिनवर’ जगीश, शत इन्द्र नमत नित आत्मशीश |
जय शीतल वच ‘शीतल जिनंद’, भवताप नशावन जगत् चंद ||५||

जय जय ‘श्रेयांस जिन’ अति उदार, भवि कंठ माँहि मुक्ता सुहार |
जय ‘वासुपूज्य’ वासव खगेश, तुम स्तुति करि नमिहें हमेश ||६||

जय ‘विमल जिनेश्वर’ विमलदेव, मल रहित विराजत करहुँ सेव |
जय ‘जिन अनंत’ के गुण अनंत, कथनी कथ गणधर लहे न अंत ||७||

जय ‘धर्मधुरंधर’ धर्मधीर, जय धर्मचक्र शुचि ल्याय वीर |
जय ’शांतिजिनेश्वर’ शांतभाव, भव वन भटकत शुभ मग लखाव ||८||

जय ‘कुंथु’ कुंथुवा जीव पाल, सेवक पर रक्षा करि कृपाल |
जय ‘अरहनाथ’ अरि कर्म शैल, तपवज्र खंड लहि मुक्ति गैल ||९||

जय ‘मल्लि जिनेश्वर’ कर्म आठ, मल डारे पायो मुक्ति ठाठ |
जय ‘मुनिसुव्रत’ सुव्रत धरंत, तुम सुव्रत व्रत पालन महंत ||१०||

जय ‘नमि’ नमत सुर वृंद पाय, पद पंकज निरखत शीश नाय |
जय ‘नेमि जिनेन्द्र’ दयानिधान, फैलायो जग में तत्त्वज्ञान ||११||

जय ‘पारस जिन’ आलस निवारि, उपसर्ग रुद्रकृत जीत धारि |
जय ‘महावीर’ महा धीरधार, भवकूप थकी जग तें निकार ||१२||

जय ‘वर्ग आठ’ सुन्दर अपार, तिन भेद लखत बुध करत सार |
जय पाँच पूज्य ‘परमेष्ठि सार, सुमिरत बरसे आनंदधार ||१३||

जय ‘दर्शन ज्ञान चारित्र‘ तीन, ये रत्न महा उज्ज्वल प्रवीन |
जय ‘चार प्रकार सुदेव’ सार, तिनके गृह जिन मंदिर अपार ||१४||

वे पूजें वसुविधि द्रव्य ल्याय, मैं इत जजि तुम पद शीश नाय |
जो ‘मुनिवर धारत अवधि चार’, तिन पूजै भवि भवसिंधु पार ||१५||

जो ‘आठ ऋद्धि मुनिवर’ धरंत, ते मौपे करुणा करि महंत |
‘चौबीस देवि’ जिनभक्ति लीन, वंदन ताको सु परोक्ष कीन ||१६||

जे ‘ह्रीं’ तीन त्रैकोण माँहि, तिन नमत सदा आनंद पाहिं |
जय जय जय ‘श्री अरिहंत बिम्ब’, तिन पद पूजूँ मैं खोई डिंब ||१७||

जो ‘दस दिग्पाल’ कहे महान्, जे दिशा नाम सो नाम जान |
जे तिनि के गृह जिनराज धाम, जे रत्नमई प्रतिमा भिराम ||१८||

ध्वज तोरण घंटा युक्त सार, मोतिन माला लटके अपार |
जे ता मधि वेदी हैं अनूप, तहाँ राजत हैं जिनराज भूप ||१९||

जय मुद्रा शांति विराजमान, जा लखि वैराग्य बढ़े महान् |
जे देवी देव सु आय आय, पूजें तिन पद मन वचन काय ||२०||

जल मिष्ट सु उज्ज्वल पय समान, चंदन मलयागिरि को महान् |
जे अक्षत अनियारे सु लाय, जे पुष्पन की माला बनाय ||२१||

चरु मधुर विविध ताजी अपार, दीपक मणिमय उद्योतकार |
जे धूप सु कृष्णागरु सुखेय, फल विविध भाँति के मिष्ट लेय ||२२||

वर अर्घ अनूपम करत देव, जिनराज चरण आगे चढ़ेव |
फिर मुख तें स्तुति करते उचार, हो करुणानिधि संसार तार ||२३||

मैं दु:ख सहे संसार ईश, तुम तें छानी नाह्रीं जगीश |
जे इहविध मौखिक स्तुति उचार, तिन नशत शीघ्र संसार भार ||२४||

इहविधि जो जन पूजन कराय, ऋषिमंडल-यंत्र सु चित्त लाय |
जे ऋषिमंडल पूजन करंत, ते रोग-शोक संकट हरंत ||२५||

जे राजा-रण कुल वृद्धि हान, जल दुर्ग सु गज केहरि बखान |
जे विपत घोर अरु अहि मसान, भय दूर करे यह सकल जान ||२६||

जे राजभ्रष्ट ते राज पाय, पदभ्रष्ट थकी पद शुद्ध थाय |
धन अर्थी धन पावे महान, या में संशय कछु नाहिं जान ||२७||

भार्यार्थी अरु भार्या लहंत, सुत-अर्थी सुत पावे तुरंत |
जे रूपा सोना ताम्रपत्र, लिख तापर यंत्र महापवित्र ||२८||

ता पूजे भागे सकल-रोग, जे वात-पित्त-ज्वर नाशि शोग।
तिन गृह तें भूत-पिशाच जान, ते भाग जाहिं संशय न आन।।२९।।

जे ऋषिमंडल पूजा करंत, ते सुख पावत कहिं लहे न अंत |
जब ऐसी मैं मनमाँहिं जान, तब भावसहित पूजा सुठान ||३०||

वसुविधि के सुन्दर द्रव्य ल्याय, जिनराज चरण आगे चढ़ाय |
फिर करत आरती शुद्धभाव, जिनराज सभी लख हर्ष आव ||३१||

तुम देवन के हो देव देव! इक अरज चित्त में धारि लेव |
हे दीनदयाल दया कराय, जो मैं दु:खिया इह-जग भ्रमाय ||३२||

जे इस भव-वन में वास लीन, जे काल अनादि गमाय दीन |
मैं भ्रमत चतुर्गति-विपिन माँहि, दु:ख सहे सुक्ख को लेश नाहिं ||३३||

ये कर्म महारिपु जोर कीन, जे मनमाने ते दु:ख दीन |
ये काहू को नहिं डर धराय, इन तें भयभीत भयो अघाय ||३४||

यह एक जन्म की बात जान, मैं कह न सकत हूँ देव मान |
जब तुम अनंत परजाय जान, दरशायो संसृति पथ विधान ||३५||

उपकारी तुम बिन और नाहिं, दीखत मोकों इस जगत माँहि |
तुम सबलायक ज्ञायक जिनंद, रत्नत्रय सम्पति द्यो अमंद ||३६ ||

यह अरज करूँ मैं श्री जिनेश, भव-भव सेवा तुम पद हमेश |
भव-भव में श्रावककुल महान, भव-भव में प्रकटित तत्त्वज्ञान ||३७||

भव-भव में व्रत हो अनागार, तिस पालन तें हों भवाब्धि पार |
ये योग सदा मुझको लहान, हे दीनबन्धु करुणानिधान! ||३८||

‘दौलत आसेरी’ मित्र होय, तुम शरण गही हरषित सु होय |

(छन्द घत्तानन्दा)

जो पूजे ध्यावे, भक्ति बढावे, ऋषिमंडल शुभयंत्र तनी |
या भव सुख पावे सुजस लहावे, परभव स्वर्ग सुलक्ष धनी ||

ॐ ह्रीं श्री सर्वोपद्रव-विनाशन-समर्थाय रोग-शोक-सर्वसंकट-हराय सर्वशांति-पुष्टिकराय, श्रीवृषभादि-चौबीस-तीर्थंकर, अष्ट-वर्ग, अरिहंतादि -पंचपद, दर्शन-ज्ञान-चारित्र, चतुर्णिकाय-देव, चार प्रकार अवधिधारक श्रमण, अष्टऋद्धि- संयुक्त-ऋषिमंडल, चतुर्विंशति सुरी,तीन ह्रीं, अरिहंतबिम्ब, दश दिग्पाल,यन्त्र सम्बन्धि –देव-देवी सेविताय परमदेवाय जयमाला-पूर्णार्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।

ऋषिमंडल शुभयंत्र को, जो पूजे मन लाय |
ऋद्धि-सिद्धि ता घर बसे, विघन सघन मिट जाय ||

विघन सघन मिट जाय, सदा सुख सो नर पावे |
ऋषिमंडल शुभयंत्र-तनी, जो पूज रचाववे ||

भाव-भक्ति युत होय, सदा जो प्राणी ध्यावे |
या भव में सुख भोग, स्वर्ग की सम्पत्ति पावे ||

या पूजा परभाव मिटे, भव भ्रमण निरंतर |
या तें निश्चय मानि करो, नित भाव भक्तिधर ||
।। इत्याशीर्वाद: पुष्पांजलिं क्षिपेत् ।।


जैन पूजा – चालीसा संग्रह  :

 

Recent Posts

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Gayatri Mata Aarti Lyrics – गायत्री माता की आरती

Gayatri Mata Aarti Lyrics Hindi Lyrics श्री गायत्री माता की आरती  जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता सत्… Read More

  • आरती-चालीसा

Sant Guru Ravidas Ji Chalisa -संत गुरु रविदास जी चालीसा

Sant Guru Ravidas Ji Chalisa hindi lyrics || संत श्री रविदास जी चालीसा || || दोहा || बन्दौ वीणा पाणि… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Maa Shakumbhari Devi Chalisa- माँ शाकुंबरी देवी चालीसा

Maa Shakumbhari Devi Chalisa Hindi lyrics ।। माँ शाकुंबरी देवी चालीसा ।। ।।दोहा।। दाहिने भीमा ब्रामरी अपनी छवि दिखाए। बाईं… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Mata Parvati Aarti – माता पार्वती जी आरती

Mata Parvati ji ki Aarti Hindi Lyrics माता पार्वती जी आरती ॐ जय पार्वती माता मैया जय पार्वती माता ब्रह्म… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Saraswati Mata Ki Aarti in Hindi – माँ सरस्वती आरती

Saraswati Mata ki aarti in Hindi माँ सरस्वती जी आरती ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता सदगुण वैभव… Read More