Shri Pitra Dev Chalisa -श्री पितृ देव चालीसा

Shri Pitra Dev Chalisa Hindi lyrics

।।श्री पितृ देव चालीसा।।

।। दोहा ।।

हे पितरेश्वर आपको दे दियो आशीर्वाद।
चरणाशीश नवा दियो रख दो सिर पर हाथ।
सबसे पहले गणपत पाछे घर का देव मनावा जी।
हे पितरेश्वर दया राखियो, करियो मन की चाया जी।।

।। चौपाई ।।

पितरेश्वर करो मार्ग उजागर, चरण रज की मुक्ति सागर।
परम उपकार पित्तरेश्वर कीन्हा, मनुष्य योणि में जन्म दीन्हा।
मातृ-पितृ देव मन जो भावे, सोई अमित जीवन फल पावे।
जै-जै-जै पित्तर जी साईं, पितृ ऋण बिन मुक्ति नाहिं।

चारों ओर प्रताप तुम्हारा, संकट में तेरा ही सहारा।
नारायण आधार सृष्टि का, पित्तरजी अंश उसी दृष्टि का।
प्रथम पूजन प्रभु आज्ञा सुनाते, भाग्य द्वार आप ही खुलवाते।
झुंझनू में दरबार है साजे, सब देवों संग आप विराजे।

प्रसन्न होय मनवांछित फल दीन्हा, कुपित होय बुद्धि हर लीन्हा।
पित्तर महिमा सबसे न्यारी, जिसका गुणगावे नर नारी।
तीन मण्ड में आप बिराजे, बसु रुद्र आदित्य में साजे।
नाथ सकल संपदा तुम्हारी, मैं सेवक समेत सुत नारी।

छप्पन भोग नहीं हैं भाते, शुद्ध जल से ही तृप्त हो जाते।
तुम्हारे भजन परम हितकारी, छोटे बड़े सभी अधिकारी।
भानु उदय संग आप पुजावै, पांच अँजुलि जल रिझावे।
ध्वज पताका मण्ड पे है साजे, अखण्ड ज्योति में आप विराजे।

सदियों पुरानी ज्योति तुम्हारी, धन्य हुई जन्म भूमि हमारी।
शहीद हमारे यहाँ पुजाते, मातृ भक्ति संदेश सुनाते।
जगत पित्तरो सिद्धान्त हमारा, धर्म जाति का नहीं है नारा।
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सब पूजे पित्तर भाई।

हिन्दू वंश वृक्ष है हमारा, जान से ज्यादा हमको प्यारा।
गंगा ये मरुप्रदेश की, पितृ तर्पण अनिवार्य परिवेश की।
बन्धु छोड़ ना इनके चरणाँ, इन्हीं की कृपा से मिले प्रभु शरणा।
चौदस को जागरण करवाते, अमावस को हम धोक लगाते।

जात जडूला सभी मनाते, नान्दीमुख श्राद्ध सभी करवाते।
धन्य जन्म भूमि का वो फूल है, जिसे पितृ मण्डल की मिली धूल है।
श्री पित्तर जी भक्त हितकारी, सुन लीजे प्रभु अरज हमारी।
निशिदिन ध्यान धरे जो कोई, ता सम भक्त और नहीं कोई।

तुम अनाथ के नाथ सहाई, दीनन के हो तुम सदा सहाई।
चारिक वेद प्रभु के साखी, तुम भक्तन की लज्जा राखी।
नाम तुम्हारो लेत जो कोई, ता सम धन्य और नहीं कोई।
जो तुम्हारे नित पाँव पलोटत, नवों सिद्धि चरणा में लोटत।

सिद्धि तुम्हारी सब मंगलकारी, जो तुम पे जावे बलिहारी।
जो तुम्हारे चरणा चित्त लावे, ताकी मुक्ति अवसी हो जावे।
सत्य भजन तुम्हारो जो गावे, सो निश्चय चारों फल पावे।
तुमहिं देव कुलदेव हमारे, तुम्हीं गुरुदेव प्राण से प्यारे।

सत्य आस मन में जो होई, मनवांछित फल पावें सोई।
तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई, शेष सहस्र मुख सके न गाई।
मैं अतिदीन मलीन दुखारी, करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी।
अब पित्तर जी दया दीन पर कीजै, अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै।

।। दोहा ।।

पित्तरों को स्थान दो, तीरथ और स्वयं ग्राम।
श्रद्धा सुमन चढ़ें वहां, पूरण हो सब काम।
झुंझनू धाम विराजे हैं, पित्तर हमारे महान।
दर्शन से जीवन सफल हो, पूजे सकल जहान।।
जीवन सफल जो चाहिए, चले झुंझनू धाम।
पित्तर चरण की धूल ले, हो जीवन सफल महान।।

।। इति पितर चालीसा समाप्त ।।


Shri Pitra Dev Chalisa English Lyrics

 

Loading...

|| Doha ||

He Pitareshwar Aapko De Diyo Aashirvad.
Charanashish Nava Diyo Rakh Dosir Par Hath.
Sabase Pahle Ganpat Pachhe Ghar Ka Dev Manava Ji.
He Pitareshwar Daya Rakhiyo, Kariyo Man Chaya Ji.

|| Chaupai ||

Pitareshwar Karo Marg Ujagar, Charan Raj Ko Mukti Sagar .
Param Upkar Pitareshwar Kinha, Manushya Yoni Me Janma Dinha .
Matru-Pitru Dev Man Jo Bhave, Soi Amit Jeevan Fal Pave .
Jai-Jai-Jai Pitar Ji Sai, Pitru Roon Bin Mukti Naahi .

Charon Or Pratap Tumhara, Sankat Me Tera Hi Sahara .
Narayan Aadhar Srushti Ka, Pitarji Ansh Usi Drushti Ka .
Pratham Poojan Prabhu Adnya Sunate, Bhagya Dvar Aap Hi Khulavate .
Jhoonjhanu Me Darbar Hai Saje, Sab Devon Sang Aap Viraje .

Pasanna Hoy Manvanchhit Fal Dinha, Kupit Hoy Buddhi Har Linha.
Pitar Mahima Sabase Nyari, Jisaka Gungave Nar Nari .
Teen Mand Me Aap Biraje, Basu Rudra Aaditya Me Saaje .
Naath Sakal Sampada Tumhari, Mai Sevak Samet Sut Nari .

Chhappan Bhog Nahi Hai Bhaate, Shuddha Jal Se Hi Trupa Ho Jate.
Tumhare Bhajan Param Hitakari, Chhote Bade Sabhi Adhikari .
Bhanu Uday Sang Aap Pujavai, Panch Anjuli Jal Rijhave .
Dhvaj Pataka Mand Pe Hai Saje, Akhand Jyoti Me Aap Viraje .

Sadiyo Purani Jyoti Tumhari, Dhanya Hui Janma Bhoomi Hamari .
Shaheed Hamare Yahan Pujate, Matru Bhakti Sandesh Sunate.
Jagat Pitaro Sinddhant Hamara, Dharma Jati Ka Nahi Hai Nara.
Hindu, Muslim, Sikh, Isai Sab Puje Pitar Bhai.

Hindu Vansh Vruksh Hai Hamara, Jan Se Jyada Hamko Pyara.
Ganga Ye Marupradesh Ki, Pitru Tarpan Aniuvarya Parivesh Ki.
Bandhu Chhod Na Inake Charana, Inhi Ki Krupa Se Mile Sharana .
Chaudas Ko Jagaran Karvate, Amaavas Ko Ham Dhok Lagate.

Jat Jadula Sabhi Manate, Naandimukh Shraddha Sabhi Karavate.
Dhnya Janma Bhoomi Ka Vo Phool Hai, Jise Pitru Mandal Ki Mili Dhul Hai .
Shree Pitar Ji Bhakt Hitakari, Sun Lije Prabhu Araj Hamari.
Nishidin Dhyan Dhare Jo Koi, Ta Sam Bhakt Aur Nahi Koi .

Tum Anath Ke Nath Sahai, Deenan Ke Ho Tum Sada Sahai.
Charik Ved Prabhu Ke Sakhi, Tu Bhaktan Ki Lajja Rakhi.
Naam Tumharo Let Jo Koi, Ta Sam Dhanya Aur Nahi Koi.
Jo Tumhare Nit Pav Palotat, Navo Siddhi Charana Me Lotat .

Siddhi Tumhari Sab Mangalkari, Jo Tum Pe Jave Balihari.
Jo Tumhare Charana Chitta Lave, Taki Mukti Avasi Ho Jave.
Satya Bhajan Tumharo Jo Gave, So Nishchay Charo Phal Pave.
Tumahi Dev Kuldev Hamare, Tumhi Gurudev Pran Pyare .

Satya Aas Man Me Jo Hoi, Manvanchhit Phal Pave Soi.
Tumhari Mahima Buddhi Badai, Shesh Sahastra Mukh Sake Na Gai.
Mai Atideen Maleen Dukharee, Karahu Kaun Vidhi Vinaytumhari.
Ab Pitar Ji Daya Deen Par Kijai, Apani Bhakti Shakti Kachhu Deejai .

|| Doha ||

Pitaro Ko Sthan Do, Teerath Aur Swayam Gram.
Shraddha Suman Chadhe Vaha, Puran Ho Sab Kam.
Jhunjhanu Dham Viraje Hai, Pitar Hamare Mahan.
Darshan Se Jeevan Safal Ho, Pooje Sakal Jahan .
Jeevan Safal Jo Chahiye, Chale Jhunjhanu Dham.
Pitar Charan Ki Dhool Le, Ho Jeevan Safal Mahan.

: Shri Pitra Dev Chalisa Ends :


पढ़ने योग्य अन्य चालीसा :

  1. माँ चामुंडा देवी चालीसा
  2. माता पार्वती चालीसा
  3. श्री सूर्य देव चालीसा 
  4. श्री प्रेतराज सरकार चालीसा
  5. श्री गोरखनाथ चालीसा

    : SagarDuniya ( Social Media ) पर भी उपलब्ध है :-

    Facebook  ।  Instagram । Twitter ।

Loading...

अपने सुझाव प्रदान करे

%d bloggers like this: