Categories: जैन धर्म जैन स्तोत्र

SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन विनती हे दीनबंधु

SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन विनती हे दीनबंधु यह अनुपम रचना कविश्री वृन्दावनदास द्वारा रची गयी है। जिसमे परमात्मा से अपने दुखों का मोचन अर्थात समस्त दुखों का निवारण हेतु मंगलकारी भावना की गयी है। अब आप Pdf & Mp3 Downlaod भी कर सकते है।

(संकटमोचन विनती-SANKATMOCHAN VINTI)

हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||
मालिक हो दो जहान के जिनराज आपही |
एबो-हुनर हमारा कुछ तुमसे छिपा नहीं ||
बेजान में गुनाह मुझसे बन गया सही |
ककरी के चोर को कटार मारिये नहीं ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१||

दु:ख-दर्द दिल का आपसे जिसने कहा सही |
मुश्किल कहर से बहर किया है भुजा गही ||
जस वेद औ’ पुरान में प्रमान है यही |
आनंदकंद श्री जिनेंद्र देव है तुही ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२||

हाथी पे चढ़ी जाती थी सुलोचना सती |
गंगा में ग्राह ने गही गजराज की गती ।।
उस वक्त में पुकार किया था तुम्हें सती |
भय टार के उबार लिया हे कृपापती ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||३||

पावक-प्रचंड कुंड में उमंड जब रहा |
सीता से शपथ लेने को तब राम ने कहा ||
तुम ध्यान धार जानकी पग धारती तहाँ |
तत्काल ही सर-स्वच्छ हुआ कमल लहलहा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||४||

जब चीर द्रोपदी का दु:शासन ने था गहा |
सब ही सभा के लोग थे कहते हहा-हहा ||
उस वक्त भीर-पीर में तुमने करी सहा |
परदा ढँका सती का सुजस जगत् में रहा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||५||

श्रीपाल को सागर-विषे जब सेठ गिराया |
उनकी रमा से रमने को वो बेहया आया ||
उस वक्त के संकट में सती तुम को जो ध्याया |
दु:ख-दंद-फंद मेट के आंनद बढ़ाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||६||

जैन धर्म संकटमोचन विनती

हरिषेण की माता को जहाँ सौत सताया |
रथ जैन का तेरा चले पीछे यों बताया ||
उस वक्त के अनशन में सती तुम को जो ध्याया |
चक्रेश हो सुत उसके ने रथ जैन का चलाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||7||

सम्यक्त्व-शुद्ध शीलवती चंदना सती |
जिसके नगीच लगती थी जाहिर रती-रती ||
बेडी़ में पड़ी थी तुम्हें जब ध्यावती हती |
तब वीर धीर ने हरी दु:ख-दंद की गती ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||८||

जब अंजना-सती को हुआ गर्भ उजारा |
तब सास ने कलंक लगा घर से निकारा ||
वन-वर्ग के उपसर्ग में तब तुमको चितारा |
प्रभु-भक्त व्यक्त जानि के भय देव निवारा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||९||

सोमा से कहा जो तूँ सती शील विशाला |
तो कुंभ तें निकाल भला नाग जु काला ||
उस वक्त तुम्हें ध्याय के सति हाथ जब डाला |
तत्काल ही वह नाग हुआ फूल की माला ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१०||

जब कुष्ठ-रोग था हुआ श्रीपाल राज को |
मैना सती तब आपकी पूजा इलाज को ||
तत्काल ही सुंदर किया श्रीपालराज को |
वह राजरोग भाग गया मुक्त राज को ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||११||

जब सेठ सुदर्शन को मृषा-दोष लगाया |
रानी के कहे भूप ने सूली पे चढ़ाया ||
उस वक्त तुम्हें सेठ ने निज-ध्यान में ध्याया |
सूली से उतार उसको सिंहासन पे बिठाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१२||

SANKATMOCHAN VINTI

जब सेठ सु धन्ना जी को वापी में गिराया |
ऊपर से दुष्ट फिर उसे वह मारने आया ||
उस वक्त तुम्हें सेठ ने दिल अपने में ध्याया |
तत्काल ही जंजाल से तब उसको बचाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१३||

इक सेठ के घर में किया दारिद्र ने डेरा |
भोजन का ठिकाना भी न था साँझ-सबेरा ||
उस वक्त तुम्हें सेठ ने जब ध्यान में घेरा |
घर उस के में तब कर दिया लक्ष्मी का बसेरा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१४||

बलि वाद में मुनिराज सों जब पार न पाया |
तब रात को तलवार ले शठ मारने आया ||
मुनिराज ने निज-ध्यान में मन लीन लगाया |
उस वक्त हो प्रत्यक्ष तहाँ देव बचाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१५||

जब राम ने हनुमंत को गढ़-लंक पठाया |
सीता की खबर लेने को सह-सैन्य सिधाया ||
मग बीच दो मुनिराज की लख आग में काया |
झट वारि-मूसलधार से उपसर्ग मिटाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१६||

जिननाथ ही को माथ नवाता था उदारा |
घेरे में पड़ा था वह वज्रकर्ण विचारा ||
उस वक्त तुम्हें प्रेम से संकट में चितारा |
प्रभु वीर ने सब दु:ख तहाँ तुरत निवारा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१७||

रणपाल कुँवर के पड़ी थी पाँव में बेड़ी |
उस वक्त तुम्हें ध्यान में ध्याया था सबेरी ||
तत्काल ही सुकुमाल की सब झड़ पड़ी बेड़ी |
तुम राजकुँवर की सभी दु:ख-दंद निवेरी ||

हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |

यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१८||

जब सेठ के नंदन को डसा नाग जु कारा |
उस वक्त तुम्हें पीर में धर धीर पुकारा। |
तत्काल ही उस बाल का विष भूरि उतारा |
वह जाग उठा सोके मानो सेज सकारा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||१९||

मुनि मानतुंग को दई जब भूप ने पीरा |
ताले में किया बंद भरी लोह-जंजीरा ||
मुनि-ईश ने आदीश की थुति की है गंभीरा |
चक्रेश्वरी तब आनि के झट दूर की पीरा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२०||

शिवकोटि ने हठ था किया समंतभद्र-सों |
शिव-पिंडि की वंदन करो शंको अभद्र-सों ||
उस वक्त ‘स्वयंभू’ रचा गुरु भाव-भद्र-सों |
जिन-चंद्र की प्रतिमा तहाँ प्रगटी सुभद्र सों ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२१||

तोते ने तुम्हें आनि के फल आम चढ़ाया |
मेंढक ले चला फूल भरा भक्ति का भाया ||
तुम दोनों को अभिराम-स्वर्गधाम बसाया |
हम आप से दातार को लख आज ही पाया ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२२||

श्री संकटमोचन विनती Lyrics

कपि-श्वान-सिंह-नेवला-अज-बैल बिचारे |
तिर्यंच जिन्हें रंच न था बोध चितारे ||
इत्यादि को सुर-धाम दे शिवधाम में धारे |
हम आप से दातार को प्रभु आज निहारे ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२३||

तुम ही अनंत-जंतु का भय-भीर निवारा |
वेदो-पुराण में गुरु-गणधर ने उचारा ||
हम आपकी शरनागती में आके पुकारा |
तुम हो प्रत्यक्ष-कल्पवृक्ष इच्छिताकारा ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२४||

प्रभु भक्त व्यक्त भक्त जक्त मुक्ति के दानी |
आनंदकंद-वृंद को हो मुक्त के दानी ||
मोहि दीन जान दीनबंधु पातक भानी |
संसार विषम-खार तार अंतर-जामी ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२५||

करुणानिधान बान को अब क्यों न निहारो |
दानी अनंतदान के दाता हो सँभारो ||
वृषचंद-नंद ‘वृंद’ का उपसर्ग निवारो |
संसार विषम-खार से प्रभु पार उतारो ||
हे दीनबंधु श्रीपति करुणानिधानजी |
यह मेरी विथा क्यों न हरो बेर क्या लगी ||२६||

|| SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन विनती सम्पूर्णम ||

SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन विनती Pdf Download & Mp3 Download

हमारा यह SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन विनती को share कर जिनवाणी के प्रचार-प्रसार में अपना अमूल्य योगदान प्रदान करे।  जय जिनेन्द्र !


            SANKATMOCHAN VINTI-संकटमोचन Video

               


जैन धर्म की अन्य स्तुति एवं स्तोत्र :

Recent Posts

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Gayatri Mata Aarti Lyrics – गायत्री माता की आरती

Gayatri Mata Aarti Lyrics Hindi Lyrics श्री गायत्री माता की आरती  जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता सत्… Read More

  • आरती-चालीसा

Sant Guru Ravidas Ji Chalisa -संत गुरु रविदास जी चालीसा

Sant Guru Ravidas Ji Chalisa hindi lyrics || संत श्री रविदास जी चालीसा || || दोहा || बन्दौ वीणा पाणि… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Maa Shakumbhari Devi Chalisa- माँ शाकुंबरी देवी चालीसा

Maa Shakumbhari Devi Chalisa Hindi lyrics ।। माँ शाकुंबरी देवी चालीसा ।। ।।दोहा।। दाहिने भीमा ब्रामरी अपनी छवि दिखाए। बाईं… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Mata Parvati Aarti – माता पार्वती जी आरती

Mata Parvati ji ki Aarti Hindi Lyrics माता पार्वती जी आरती ॐ जय पार्वती माता मैया जय पार्वती माता ब्रह्म… Read More

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Saraswati Mata Ki Aarti in Hindi – माँ सरस्वती आरती

Saraswati Mata ki aarti in Hindi माँ सरस्वती जी आरती ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता सदगुण वैभव… Read More