Categories: जैन धर्म जैन स्तोत्र

Barah Bhavna-बारह भावना -Raja Rana Chatrapati

Barah Bhavna-बारह भावना (12 Bhavna Jainism in Hindi Lyrics )

  -राजा राणा छत्रपति यह जैन पाठ अपने आप में श्रीमान पंडित कविवर भूधरदास जी कृत एक अद्भुत रचना है। जिसमे अनेक प्रकार से संसार की असारता को दर्शाया गया है। कि मनुष्य जन्म बड़ी ही दुर्लभता से प्राप्त हुआ है। जीवन के महत्व को समझने में सहायक आपके लिए –

Barah Bhavna-बारह भावना

                रचयिता : श्रीमान पंडित कविवर भूधरदास जी कृत      

 

:दोहा :

राजा  राणा   छत्रपति ,  हाथिन   के   असवार ।
मरना सबको एक दिन , अपनी – अपनी बार ।। १।

दल बल देवी देवता , मात    पिता   परिवार ।
मरती बिरियां जीव को , कोई न राखन हार ।।२।।

दाम बिना निर्धन दुखी , तृष्णा   वश  धनवान ।
कंहू न सुख संसार में , सब जग देख्यो छान ।।३।।

आप  अकेला  अवतरे ,   मरे   अकेलो    होय ।
यूँ कबहूँ इस जीव को , साथी सगा न कोय ।।४।।

जहां देह अपनी नहीं , तहां   न अपना  कोय ।
घर सम्पति पर प्रगट ये , पर है परिजन लोय ।।५।।

दीपै चाम – चादर  मढ़ी , हाड      पींजरा देह ।
भीतर या सम जगत में ,अवर नहीं घिन गेह ।।६।।
                        

     :सोरठा :

मोह   नींद  के  जोर ,  जगवासी   घुमै    सदा ।
कर्म चोर चंहु ओर ,    सरवस लूटे सुध नहीं ।।७।।

सतगुरु देय जगाय ,मोह नींद    जब उपशमै ।
तब कछु बनै उपाय , कर्म चोर आवत रुकै ।।८।     

    :दोहा :

ज्ञान दीप तप तेल भर ,  घर      शोधै भ्रम   छोर ।
या विध बिन निकसे नहीं , पैठे पूरब     चोर ।।९।।

पञ्च महाव्रत संचरण , समिति पञ्च       प्रकार ।
प्रबल पञ्च इन्द्रिय विजय , धार निर्जरा सार ।।१०।।

चौदह राजू उतंग नभ ,  लोक   पुरुष   संठान ।
तामे जीव अनादिते , भरमत हैं बिन ज्ञान  ।।११।।

धन कन कंचन राज सुख , सबहि सुलभ कर जान ।
दुर्लभ   है संसार    में , एक    जथारथ ज्ञान ।।१२।।

जाचे सुर तरु देय सुख , चिन्तत चिन्ता रैन ।
बिन जाचेँ बिन चिंतये ,  धर्म सकल सुख दैन ।।१३


जय जिनेन्द्र ! Barah Bhavna-बारह भावना जैन पाठ आपको कैसा लगा। हमें अवश्य Comment  में जरूर बताये। और इस 12 Bhavna को Facebook आदि पर शेयर करके जिनवाणी के प्रचार में अपना अमूल्य योगदान प्रदान करे। जिससे ये जन – जन को आसानी से प्राप्त हो सके।

View Comments

  • जय जिनेन्द्र । बहुत ही सुंदर भावना है ।

Recent Posts

  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Shri Kaal Bhairav Chalisa – श्री काल भैरव चालीसा

Shri Kaal Bhairav Chalisa श्री काल भैरव चालीसा Hindi Lyrics ॥दोहा॥ श्री गणपति गुरु गौरी पद प्रेम सहित । चालीसा… Read More

2 hours ago
  • Best Sagar Duniya

Sainath Tere Hazaron Haath -साईं नाथ तेरे हजारों हाथ

Sainath Tere Hazaron Haath  साईं नाथ तेरे हजारों हाथ Hindi Lyrics तू ही फकीर तू ही है राजा तू ही… Read More

1 day ago
  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Shri Krishna Chalisa- श्री कृष्ण चालीसा

Shri Krishna Chalisa श्री कृष्ण चालीसा हिन्दी  ॥दोहा॥ बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम। अरुण अधर जनु बिम्बफल,… Read More

1 day ago
  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Jai Jai Santoshi Mata ki aarti lyrics -संतोषी माता की आरती

Jai Jai Santoshi Mata ki aarti lyrics श्री संतोषी माता की आरती  जय सन्तोषी माता, मैया सन्तोषी माता अपने सेवक… Read More

1 day ago
  • आरती-चालीसा
  • हिन्दू धर्म

Jai Ganesh Deva Aarti Lyrics Hindi – जय गणेश देवा आरती हिन्दी

Aarti : Jai Ganesh Deva Aarti Lyrics Hindi  जय गणेश देवा आरती हिन्दी जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।… Read More

1 day ago

This website uses cookies.